ज़िंदगी की धुन पर थिरकने को मजबूर ‘घुमक्कड़ समुदाय’

राजस्थान में भारत-पाक सीमा से करीब 50 किमी. पहले एक गांव है साम गांव। अगर रेतीले रेगिस्तान के बीच बसे गांवों में आपको जाने का मौका मिले, तो आपको वहां एक अजीबो-गरीब मंजर देखने को मिलेगा। इस गांव में दूर-दूर बसे बिना छत के अस्थायी घरों में आदमी मिले या न मिले, घर में मौजूद…

Internet, Information and Empowerment

The internet and other communication tools and technologies have created unprecedented opportunities to access and share information, opened up paths for pro-democracy groups, activists, journalists and individuals around the world to organize and make their government accountable and transparent. Internet has emerged as the most empowering tool of the 21st century. However, the new technologicaltools can…

केरल पर्यटन होने जा रहा हाईटेक

जिन वजहों से केरल आज दुनिया भर में पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बना है, वो हैं : वहां का मौसम, समंदर का किनारा, बारिश, पानी से घीरे गांव, घने जंगल और चालीस से अधिक नदियाँ । इसके अलावा यहां की पंचकर्म चिकित्सा पद्धति और विज्ञान और प्रौद्योगिकी की समृद्ध परंपरा भी पर्यटकों को खीचने…

देश को एक नहीं, अनेकों ‘ग्लोकल यूनिवर्सिटी’ की जरूरत

एक तरफ देश में जैसे जैसे चुनावी सरगर्मी तेज हो रही है उसी तरह केंद्र और राज्य सरकारें भी अपनी-अपनी उपलब्धियों के साथ-साथ मैदान में उतरने लगी हैं। इस दौड़ में दिल्ली सरकार भी पीछे नहीं है। राजधानी दिल्ली में चल रहे एफएम रोडियो पर विज्ञापन हो या मेट्रो और बस स्टॉप पर लगे होर्डिंग्स,…

प्राकृतिक संपदा संरक्षण के लिए आदिवासियों ने मोबाइल को बनाया हथियार

अगर कोई बच्चा पूंजीपति या उच्च जाति के परिवार में पैदा हो जाए तो वो पूंजीपति, राजनेता या फिर पत्रकार बन जाता है, राजस्थान, पंजाब में गरीब परिवार में पैदा होता है तो फौज में जाता है और वही एक बच्चा जब झारखंड, छत्तीसगढ़ के आदिवासी के घर में पैदा होता है तो वो जंगलों…

सशक्त नारी से ही बनेगा सशक्त समाज

आज के माहौल में महिला सशक्तिकरण की बात करने से पहले हमें इस सवाल का जवाब ढूंढना जरूरी है कि क्या वास्तव में महिलायें अशक्त हैं ? कहीं ऐसा तो नहीं कि अनजाने में या स्वार्थ के लिए उन्हें किसी साजिश के तहत कमजोर दिखाने की कोशिश हो रही है? इतिहास गवाह है कि मानव…

कालबेलिया जनजाति आज भी किसी जादू के इंतजार में

वैसे तो घुमंतू संपेरा जनजाति और पंचसितारा होटल का कोई रिश्ता तो नहीं, लेकिन 18 जुलाई की शाम एमबिलियंथ अवॉर्ड्स समारोह के दौरान दिल्ली के एक पंचसितारा होटल में जिसतरह इस जनजाति ने कालबेलिया नृत्य के जरिए शमां बांधा उसे देखने वाले भौंचक्के रह गए। दरअसल, कालबेलिया, राजस्थान में सपेरा जाति की एक मशहूर नृत्य…

ग्रामीण पर्यटन को नई सोच और तकनीक की जरूरत

अबतक लोगों को किसी चीज की खबर जानने के लिए टीवी, पत्रिका, अखबार, रेडियो या इंटरनेट का सहारा लेना पड़ता था। लेकिन, अब ऐसा नहीं है, समय के साथ-साथ अब धीरे-धीरे सब कुछ बदलने लगा है। सूचना, समाचार हो या विज्ञापन सबकी खबर अब मोबाइल देने लगा है। चूंकि इन दिनों मोबाइल हर किसी की…