डिजिटल और कैशलेस इंडिया की अलग ही दुनिया

देश की राजधानी या यू कहे की शहरो में बैठ कर डिजिटल इंडिया, केशलेश इंडिया की कल्पना करना या सपना देखना माध्यम वर्ग और निति निर्माताओ के लिए सुखद अनुभव एवं सपना हो सकता है लेकिन दरअसल दूर दराज़ ग्रामीण इलाके में अभी इन गढ़े हुए नारो का कहि अता पता आज की तारीख में देखने को नही मिलता।